Powerful Shiv Tandav Stotram

Shiv Tandav stotram in hindi | Shiv tandav mantra with pdf | Ravan rachit Shiv tandav | Shiv Tandav Stotram lyrics | Shiv Tandav Stotram benefits | Shiv Tandav image

Shiv Tandav
Shiv Tandav

Shiv Tandav

Shiva Tandav is a powerful Hindu mantra dedicated to Lord Shiva, the destroyer and transformer in the Hindu trinity. People listen to Shiva Tandav to seek blessings, awaken devotion and connect with the divine energy of Lord Shiva.

Its rhythmic and intense verses, composed by the sage Ravana, express Shiva’s grandeur and cosmic dance. By listening to Shiva Tandav, individuals experience inner peace and a sense of awe toward the supreme power of Lord Shiva.

Social Media Links
👉Subscribe Our Youtube Channel👈
👉Follow us on Facebook Page👈
👉Join Our Telegram Channel👈
👉Follow us on Instagram👈

Who wrote Shiv Tandav Stotram?

Shiv Tandav mantra is a Hindu devotional hymn dedicated to Lord Shiva and is believed to have been composed by Ravana, a character in the Hindu epic, Ramayana. According to legend, Ravana was a great devotee of Lord Shiva and wrote the Tandav Shiv Stotram as an expression of his devotion.

Shiv Tandav Stotram lyrics

Here we are providing the shiv tandav lyrics.

जटा टवी गलज्जलप्रवाह पावितस्थले गलेऽव लम्ब्यलम्बितां भुजंगतुंग मालिकाम्‌।
डमड्डमड्डमड्डमन्निनाद वड्डमर्वयं चकारचण्डताण्डवं तनोतु नः शिव: शिवम्‌ ॥१॥

जटाकटा हसंभ्रम भ्रमन्निलिंपनिर्झरी विलोलवीचिवल्लरी विराजमानमूर्धनि।
धगद्धगद्धगज्ज्वल ल्ललाटपट्टपावके किशोरचंद्रशेखरे रतिः प्रतिक्षणं मम: ॥२॥

धराधरेंद्रनंदिनी विलासबन्धुबन्धुर स्फुरद्दिगंतसंतति प्रमोद मानमानसे।
कृपाकटाक्षधोरणी निरुद्धदुर्धरापदि क्वचिद्विगम्बरे मनोविनोदमेतु वस्तुनि ॥३॥

जटाभुजंगपिंगल स्फुरत्फणामणिप्रभा कदंबकुंकुमद्रव प्रलिप्तदिग्व धूमुखे।
मदांधसिंधु रस्फुरत्वगुत्तरीयमेदुरे मनोविनोदद्भुतं बिंभर्तुभूत भर्तरि ॥४

सहस्रलोचन प्रभृत्यशेषलेखशेखर प्रसूनधूलिधोरणी विधूसरां घ्रिपीठभूः।
भुजंगराजमालया निबद्धजाटजूटकः श्रियैचिरायजायतां चकोरबंधुशेखरः ॥५॥

ललाटचत्वरज्वल द्धनंजयस्फुलिंगभा निपीतपंच सायकंनम न्निलिंपनायकम्‌।
सुधामयूखलेखया विराजमानशेखरं महाकपालिसंपदे शिरोजटालमस्तुनः ॥६॥

करालभालपट्टिका धगद्धगद्धगज्ज्वल द्धनंजया धरीकृतप्रचंड पंचसायके।
धराधरेंद्रनंदिनी कुचाग्रचित्रपत्र कप्रकल्पनैकशिल्पिनी त्रिलोचनेरतिर्मम ॥७॥

नवीनमेघमंडली निरुद्धदुर्धरस्फुर त्कुहुनिशीथनीतमः प्रबद्धबद्धकन्धरः।
निलिम्पनिर्झरीधरस्तनोतु कृत्तिसिंधुरः कलानिधानबंधुरः श्रियं जगंद्धुरंधरः ॥८॥

प्रफुल्लनीलपंकज प्रपंचकालिमप्रभा विडंबि कंठकंध रारुचि प्रबंधकंधरम्‌।
स्मरच्छिदं पुरच्छिंद भवच्छिदं मखच्छिदं गजच्छिदांधकच्छिदं तमंतकच्छिदं भजे ॥९॥

अखर्वसर्वमंगला कलाकदम्बमंजरी रसप्रवाह माधुरी विजृंभणा मधुव्रतम्‌।
स्मरांतकं पुरातकं भावंतकं मखांतकं गजांतकांधकांतकं तमंतकांतकं भजे ॥१०॥

जयत्वदभ्रविभ्रम भ्रमद्भुजंगमस्फुरद्ध गद्धगद्विनिर्गमत्कराल भाल हव्यवाट्।
धिमिद्धिमिद्धि मिध्वनन्मृदंग तुंगमंगलध्वनिक्रमप्रवर्तित: प्रचण्ड ताण्डवः शिवः ॥११॥

दृषद्विचित्रतल्पयो र्भुजंगमौक्तिकमस्र जोर्गरिष्ठरत्नलोष्ठयोः सुहृद्विपक्षपक्षयोः।
तृणारविंदचक्षुषोः प्रजामहीमहेन्द्रयोः समं प्रवर्तयन्मनः कदा सदाशिवं भजे ॥१२॥

कदा निलिंपनिर्झरी निकुंजकोटरे वसन्‌ विमुक्तदुर्मतिः सदा शिरःस्थमंजलिं वहन्‌।
विमुक्तलोललोचनो ललामभाललग्नकः शिवेति मंत्रमुच्चरन्‌ कदा सुखी भवाम्यहम्‌ ॥१३॥

निलिम्प नाथनागरी कदम्ब मौलमल्लिका निगुम्फनिर्भक्षरन्म धूष्णिकामनोहरः ।
तनोतु नो मनोमुदं विनोदिनींमहनिशं परिश्रय परं पदं तदङ्गजत्विषां चयः ॥१४॥

प्रचण्ड वाडवानल प्रभाशुभप्रचारणी महाष्टसिद्धिकामिनी जनावहूत जल्पना ।
विमुक्त वाम लोचनो विवाहकालिकध्वनिः शिवेति मन्त्रभूषगो जगज्जयाय जायताम् ॥१५॥

इमं हि नित्यमेवमुक्तमुत्तमोत्तमं स्तवं पठन्स्मरन्ब्रुवन्नरो विशुद्धिमेतिसंततम् ।
हरे गुरौ सुभक्तिमाशु याति नान्यथा गतिं विमोहनं हि देहिनां सुशङ्करस्य चिंतनम् ॥१६॥

पूजावसानसमये दशवक्त्रगीतं यः शम्भुपूजनपरं पठति प्रदोषे
तस्य स्थिरां रथगजेन्द्रतुरङ्गयुक्तां लक्ष्मीं सदैव सुमुखिं प्रददाति शम्भुः ॥१७॥

Shiv Tandav lyrics in hindi

Shiv Tandav stotram lyrics in Hindi are given below. Here you will get the Shiv Tandav stotram meaning in Hindi.

शिव के बालों से बहने वाले जल से उनका कंठ पवित्र है,
और उनके गले में सांप है जो हार की तरह लटका है,
और डमरू से दमाद्दमद्दमदम्मा की शुभ ध्वनि निकल रही है,
भगवान शिव शुभ तांडव नृत्य कर रहे हैं, वे हम सबको संपन्नता प्रदान करें।॥१॥

मुझे शिव में गहरी रुचि है,
जिनका मस्तक अलौकिक गंगा नदी की बहती लहरों की धाराओं से सुशोभित है,
जो उनकी बालों की उलझी जटाओं की गहराई में उमड़ रही हैं?
जिनके मस्तक की सतह पर चमकदार अग्नि प्रज्वलित है,
और जो अपने सिर पर अर्ध-चंद्र का आभूषण पहने हैं।॥२॥

मेरा मन भगवान शिव में अपनी खुशी खोजे,
अद्भुत ब्रह्माण्ड के सारे प्राणी जिनके मन में मौजूद हैं,
जिनकी अर्धांगिनी पर्वतराज की पुत्री पार्वती हैं,
जो अपनी करुणामयी दृष्टि से सर्वत्र व्याप्त असाधारण विपत्ति को नियंत्रित करते हैं,
और जो दिव्य लोकों को अपनी पोशाक की तरह धारण करते हैं।॥३॥

मुझे भगवान शिव में अनोखा सुख मिले, जो सारे जीवन के रक्षक हैं,
उनके रेंगते हुए सांप का फन लाल-भूरा है और मणि चमक रही है,
ये दिशाओं की देवियों के सुंदर चेहरों पर तरह-तरह का रंग बिखेर रहा है,
जो विशाल मदमस्त हाथी की खाल से बने जगमगाते दुशाले से ढंका हुआ है।॥४॥

भगवान शिव हमें संपन्नता दें,
चंद्रमा जिनका मुकुट है,
जिनके बाल लाल नाग के हार से बंधे हैं,
जिनका पायदान फूलों की धूल के बहने से गहरे रंग का हो गया है,
जो इंद्र, विष्णु और अन्य देवताओं के सिर से गिरती है।॥५॥

शिव के बालों की उलझी जटाओं से हम सिद्धि की दौलत प्राप्त करें,
जिन्होंने कामदेव को अपने मस्तक पर जलने वाली अग्नि की चिनगारी से भस्म किया था,
जो सभी देवलोकों के देवताओं द्वारा पूजनीय है,
जो अर्ध-चंद्र से सुशोभित हैं।॥६॥

मुझे भगवान शिव में रुचि है, जिनके तीन नेत्र हैं,
जिन्होंने शक्तिशाली कामदेव को अग्नि को अर्पित कर दिया,
उनके भीषण मस्तक की सतह डगद् डगद्… की घ्वनि से जलती है,
वे ही एकमात्र कलाकार है जो पर्वतराज की पुत्री पार्वती के स्तन की नोक पर,
सजावटी रेखाएं खींचने में निपुण हैं।॥७॥

भगवान शिव हमें संपन्नता दें,
वे ही पूरे संसार का भार उठाते हैं,
जिनकी शोभा चंद्रमा है,
जिनके पास अलौकिक नदी गंगा है,
जिनकी गर्दन गला बादलों की पर्तों से ढंकी अमावस्या की अर्धरात्रि की तरह काली है।॥८॥

मैं भगवान शिव की प्रार्थना करता हूं, जिनका कंठ मंदिरों की चमक से बंधा है,
पूरे खिले नीले कमल के फूलों की गरिमा से लटकता हुआ,
जो ब्रह्माण्ड की कालिमा सा दिखता है।
जो कामदेव को मारने वाले हैं, जिन्होंने त्रिपुर का अंत किया,
जिसने सांसारिक जीवन के बंधनों को नष्ट किया, जिन्होंने बलि का अंत किया,
जिन्होंने अंधक दैत्य का विनाश किया, जो हाथियों को मारने वाले हैं,
और जिन्होंने मृत्यु के देवता यम को पराजित किया।॥९॥

मैं भगवान शिव की प्रार्थना करता हूं, जिनके चारों ओर मधुमक्खियां उड़ती रहती हैं
शुभ कदंब के फूलों के सुंदर गुच्छे से आने वाली शहद की मधुर सुगंध के कारण,
जो कामदेव को मारने वाले हैं, जिन्होंने त्रिपुर का अंत किया,
जिन्होंने सांसारिक जीवन के बंधनों को नष्ट किया, जिन्होंने बलि का अंत किया,
जिन्होंने अंधक दैत्य का नाश किया, जो हाथियों को मारने वाले हैं,
और जिन्होंने मृत्यु के देवता यम को पराजित किया।॥१०॥

शिव, जिनका तांडव नृत्य नगाड़े की ढिमिड ढिमिड
ऊंची आवाज श्रंखला के साथ लय में है,
जिनके महान मस्तक पर अग्नि है, वो अग्नि फैल रही है नाग की सांस के कारण,
गरिमामय आकाश में गोल-गोल घूमती हुई।॥११॥

मैं भगवान सदाशिव की पूजा कब कर सकूंगा, शाश्वत शुभ देवता,
जो सम्राटों और प्रजा के प्रति समान दृष्टिकोण रखते हैं,
घास के तिनके और कमल के प्रति, मित्रों और शत्रुओं के प्रति,
सर्वाधिक मूल्यवान रत्न और धूल के ढेर के प्रति,
सांप और हार के प्रति तथा संसार में विभिन्न रूपों के प्रति?॥१२॥

मैं कब प्रसन्न हो सकता हूं, अलौकिक नदी गंगा के निकट गुफा में रहते हुए,
अपने हाथों को हर समय बांधकर अपने सिर पर रखे हुए,
अपने दूषित विचारों को धोकर दूर करके, शिव मंत्र को बोलते का जाप करते हुए,
महान मस्तक और जीवंत नेत्रों वाले भगवान को समर्पित?॥१३॥

देवांगनाओं के सिर में गूँथे पुष्पों की मालाओं के झड़ते हुए,
सुगंधमय परोग से मनोहर,
परम शोभा के धाम महादेवजी के अंगों की सुंदरताएँ परमानंदयुक्त
हमारेमन की प्रसन्नता को सदैव बढ़ाती रहें।॥१४॥

प्रचंड बड़वानल की भाँति पापों को भस्म करने में स्त्री स्वरूपिणी अणिमादिक
अष्ट महासिद्धियों तथा चंचल नेत्रों वाली देवकन्याओं से शिव विवाह समय में
गान की गई मंगलध्वनि सब मंत्रों में परमश्रेष्ठ शिव मंत्र से पूरित,
सांसारिक दुःखों को नाश कर विजय पाएँ।॥१५॥

इस परम उत्तम शिवतांडव श्लोक को नित्य प्रति
मुक्तकंठ से पढ़ने से या सुनने से संतति वगैरह से
पूर्ण हरि और गुरु में भक्ति बनी रहती है।
जिसकी अन्य गति नहीं होती शिव की ही शरण में रहता है।॥१६॥

इस स्तोत्र को, जो भी पढ़ता है, याद करता है और सुनाता है,
वह सदैव के लिए पवित्र हो जाता है और महान गुरु शिव की भक्ति प्राप्त कर लेता है।
इस भक्ति के लिए कोई दूसरा मार्ग या उपाय नहीं है।
बस शिव के विचार मात्र से भ्रम दूर हो जाता है॥१७॥

Shiv Tandav Stotram benefits

Shiva Tandava Stotram helps to seek the blessings of Lord Shiva and deepen one’s spiritual connection with him. It brings peace, harmony, and positive energy to the surrounding environment. Regular chanting of the stotram reduces stress and anxiety and promotes mental health. It is believed to increase focus, concentration, and inner strength. It bestows protection, removes obstacles, and bestows spiritual growth and enlightenment to the devotee.

Shiv Tandav stotram pdf

Below the shiv tandav pdf is given.

FAQs on Shiv Tandav Stotram

  1. What is the Shiv Tandav Stotram?

    Shiv Tandav Stotram is a powerful hymn dedicated to Lord Shiva. It is believed to have been composed by Ravana, the demon king from the Hindu epic Ramayana.

  2. Can anyone recite the Shiv Tandav Stotram?

    Yes, Shiv Tandav Stotram can be recited by anyone who has faith and reverence for Lord Shiva. There are no specific restrictions for reciting the stotram.

  3. Is there any specific way to recite the Shiv Tandav Stotram?

    There is no strict rule on how to recite Shiv Tandav Stotra. It is usually chanted with devotion and sincerity. Some people prefer to read it the traditional way, while others may listen to recorded versions, and still, others read it silently in their minds.

Leave a Comment